वैज्ञानिक सलाहकार डा जी सतीश रेड्डी ने किया एमिटी विश्वविद्यालय का दौरा

 वैज्ञानिक सलाहकार डा जी सतीश रेड्डी ने किया एमिटी विश्वविद्यालय का दौरा
Share this post

वैज्ञानिक सलाहकार डा जी सतीश रेड्डी ने किया एमिटी विश्वविद्यालय का दौर

Noida news : नोएडा । एमिटी विश्वविद्यालय द्वारा संचालित पाठयक्रम और वैज्ञानिकों सहित शोधार्थियों द्वारा किये जा रहे शोध की जानकारी प्राप्त करने के लिए रक्षामंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार डा जी सतीश रेड्डी ने आज एमिटी विश्वविद्यालय का दौरा किया। इस अवसर पर एमिटी ग्लोबल एजुकेशन एंड रिसर्च इस्टैब्लिशमेंट के संस्थापक अध्यक्ष डा अशोक कुमार चौहान, एमिटी डायेक्टोरेट ऑफ डिस्टेंस एंड ऑनलाइन एजुकेशन के चेयरमैन श्री अजीत चौहान, रितनंद बलवेद एजुकेशन फांउडेशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष श्री अभय चौहान, एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर श्री अमोल चौहान और एमिटी साइंस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फांउडेशन के अध्यक्ष डा डब्लू सेल्वामूर्ती ने डा रेड्डी का स्वागत किया। इस अवसर पर डा जी सतीश रेड्डी और डा डा अशोक कुमार चौहान द्वारा एमिटी न्यूक्लियर सिक्योरिटी एजुकेशन, ट्रेनिंग एंड रिसर्च फैसिलिटी का उद्घाटन किया गया।

छात्रों को संबोधित करते हुए रक्षामंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार डा जी सतीश रेड्डी ने कहा कि आज भारत विश्व में सबसे तेजी से विकास कर रहा है जिसमें एमिटी जैसे शिक्षण संस्थानों की भूमिका अहम है जो शोध व नवाचारों का उद्गम बना है वही वैश्विक कुशल मानव संसाधन उपलब्ध कराने के साथ छात्रों को अपना उद्योग व स्टार्टअप प्रारंभ करने के लिए प्रेरित भी कर रहा है। पिछले कुछ वर्षो शोध सहित अकादमिक क्षमता जिसमें गुणवत्ता और परिमाण दोनो बढ़ा है। डा रेड्डी ने कहा कि संस्थानो ंके साथ स्टार्टअप और नये उद्योगों की संख्या में बृहद विकास हुआ है। रक्षा क्षेत्रों के साथ अन्य कई क्षेत्रों में देश में भारतीय उत्पादों को विकसित किया गया और आज युवाओ को वैश्विक बाजार में अपने उत्पादों की पैठ बनाने के लिए तैयार किया जा रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 से विद्यालय और विश्वविद्यालय स्तर पर छात्रों को बहुविषयक शोध, कौशल विकास, नवाचार आदि विकसित किया जा रहा है। उन्होनें कोरोनाकाल का उदाहरण देते हुए कहा कि किस तरह देश में पीपीई किट, औषधियों और वेंटीलेटर को अकादमियों, उद्योगों, सरकारी संस्थानों और डीआरडीओ के सहयोग से विकसित किया गया। उन्होनें कहा कि तकनीकी विकास और रिक्त स्थानों को भरने में अकादमिक संस्थानों की भूमिका सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर छात्रों से बातचीत करते हुए डा रेड्डी ने कहा कि ईमानदारी, कड़ी मेहनत, और ध्यान केन्द्रीत करके किसी भी क्षेत्र में सफलता प्राप्त की जा सकती है, लगातार बढ़ते कदम नई उपलब्धियों की ओर ले जाते है। हाल के वर्षो में रक्षा में वैज्ञानिक अनुसंधान का अत्यधिक विकास हुआ है और बहुत सारी रक्षा प्रौद्योगिकियां विकसित हुई है। डीआरडीओ लगातार राष्ट्र के लिए कार्य कर रहा है।

एमिटी ग्लोबल एजुकेशन एंड रिसर्च इस्टैब्लिशमेंट के संस्थापक अध्यक्ष डा अशोक कुमार चौहान ने कहा कि डा रेड्डी के विचारों और जानकारियों ने हमारे शोधार्थियों, वैज्ञानिकों, छात्रों को प्रभावित किया है और उनके अदंर एक नये उत्साह का संचार किया है। विश्व में भारतीय मस्तिष्क का कोई मुकाबला नही है आज भारत अर्थव्यवस्था, रक्षा, विज्ञान और तकनीकी के क्षेत्र में तेजी से आगे बढ़ रहा है और एमिटी अपने युवाओं के जरीये विकास के मिशन में शतप्रतिशत सहयोग दे रहा है।

इस अवसर पर रक्षामंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार डा जी सतीश रेड्डी ने छात्रों द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी और एमिटी विश्वविद्यालय की प्रयोगशालाओं का दौरा किया। इस अवसर पर एमिटी विश्वविद्यालय की वाइस चांसलर डा बलविंदर शुक्ला, एमिटी गु्रप वाइस चांसलर डा गुरिंदर सिंह सहित एमिटी विश्वविद्यालय के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा वी के जैन, डा ए चक्रवर्ती, डा नीरज शर्मा, डा ए के सिंह आदि उपस्थित थे।

Please follow and like us:
Pin Share

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email