Noida news : सही दवाओं और कस्टमाइज़्ड ट्रीटमेंट से मुमकिन है, एंड स्टेज किडनी रोगों का इलाज

 Noida news : सही दवाओं और कस्टमाइज़्ड ट्रीटमेंट से मुमकिन है, एंड स्टेज किडनी रोगों का इलाज
Share this post

 

Noida news : क्रॉनिक किडनी डिजीज़ (सीकेडी) यानी किडनी के पुराने और गंभीर रोगों से आशय है समय के साथ किडनी फंक्शन में खराबी आना। मौजूदा समय में डायबिटीज़, हाइपरटेंशन और अनहैल्दी लाइफस्टाइल के अलावा बार-बार पैदा होने वाली पथरी की शिकायत जैसी वजहों से इस बीमारी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। सीकेडी के कारणकई तरह की गंभीर समस्याएं हो सकती हैं, जैसे कि उच्च रक्तचाप (हाइपरटेंशन), एनीमिया (खून की कमी), हड्डियों का कमज़ोर होना, नसों को नुकसान और हृदय व खून की नसों संबंधी बीमारियां। चिंता की बात यह है कि जहां एक ओर सीकेडी के मामले तो बढ़ रहे हैं, वहीं इस रोग के बारे में जानकारी की बहुत कमी है। इसके अलावा, मरीजों की देखभाल के लिए उचित हैल्थकेयर सुविधाओं का भी अभाव है। साथ ही, राष्ट्रीय स्तर पर रजिस्ट्री के न होने से भी यह समस्या लगातार बढ़ रही है। इस समस्या का समाधान करने और जागरुकता बढ़ाने के लिए फोर्टिस नोएडा ने एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया, ताकि सीकेडी के बढ़ते मामलों की ओर ध्यान दिलाया जा सके और उन मरीज़ों के मामलों को सामने लाया जा सके जो अंतिम चरण की किडनी की बीमारी को हराकर आज स्वस्थ जीवन जी रहे हैं।

ऐसा पहला मामला 29 वर्षीय महिला का था जो स्टेज 5 की किडनी की गंभीर बीमारी थीं। शुरुआत में उन्हें डायलिसिस पर रखा गया, इसके बाद उनकी तबियत तेज़ी से बिगड़ने लगी। उनमें उच्च रक्तचाप, बार-बार उल्टी जैसा महसूस होने, भूख न लगने और नींद न आने जैसे लक्षण दिखने लगे। इसके अलावा, उनके फेफड़ों में ट्यूबरकुलोसिस भी हो गया और नियमित तौर पर होने वाले डायलिसिस के साथ-साथ टीबी की दवाइयां भी दी जाने

लगीं। हालांकि, डायलिसिस से कुछ हद तक ही खून की सफाई हो पाती है और इसकी वजह से मरीज़ के खानपान पर भी रोक लगा दी गई जिसके चलते वह और भी कमज़ोर हो गईं और संक्रमण का खतरा भी बढ़ गया। डायलिसिस की वजह से मरीज़ के गर्भवती की संभावनाएं भी कमज़ोर पड़ने लगीं, ऐसे में परिवार शुरू करने के लिए किडनी ट्रांसप्लांट ही एकमात्र उपाय था। इस बारे में मरीज़ के परिवार से चर्चा की गई और उनके पिता ने अपनी किडनी दान की। ट्रांसप्लांट के बाद उनकी तबियत में सुधार हुआ और अब वह सेहतमंद जीवन जी रही हैं।

दूसरे मामले में 38 वर्षीय पुरुष में किडनी संबंधी कुछ सामान्य समस्या हुई जो बाद में बिगड़ने लगा और इसका काफी बुरा असर किडनी पड़ने लगा था। मरीज़ को काफी तेज़ बुखार रहने लगा और उनका कैरेटनाइन 8.2 के स्तर पर पहुंच गया। इससे जुड़ी हर तरह की जांच की गई और सीटी चेस्ट करने पर बड़े लिम्फ नॉड्स का पता चला। इसके बाद उनकी ब्रॉन्कोस्कोपी की गई जिससे ट्यूबरकुलोसिस (टीबी) संक्रमण होने की जानकारी मिली। इसके बाद स्टेरॉयड के साथ-साथ उनका एंटी-ट्यूबरकुलर उपचार शुरू किया गया। टीबी का असर सिर्फ उनके फेफड़ों पर ही नहीं पड़ रहा था, बल्कि इस वजह से उनकी किडनियों में जलन भी हो रही थी और उनकी डायबिटिक किडनी बीमारी बढ़ रही थी। उनकी किडनी ने मूल काम करने बंद कर दिए थे और तीन हफ्तों की अवधि स्थिति खराब होती चली गई। अचानक से सामने आए टीबी संक्रमण की वजह से उनकी किडनी की गंभीर बीमारी (सीकेडी) और भी गंभीर हो गई। फोर्टिस में कम डोज़ वाले स्टेरॉयड के साथ- साथ एंटी-ट्यूबरकुलर थेरेपी की मदद से उनका कैरेटनाइन सामान्य स्तर पर आ गया।

तीसरे मामला 15 वर्षीय सेहतमंद बच्चे का था जिसके शरीर में अचानक से सूजन आ गई और मूत्र की मात्रा कम हो गई। फोर्टिस नोएडा में बच्चे की किडनी बायोप्सी कराई गई जिससे गंभीर और घातक बीमारी का पता चला। बच्चे की दोनों किडनियां 90 फीसदी तक खराब हो चुकी थीं। बच्चों के लिए यह बहुत ही असाधारण किस्म की बीमारी थी क्योंकि आम तौर पर ऐसी बीमारी वयस्कों में देखने को मिलती है। यह बीमारी कुछ खास प्रकार के एंटीबॉडीज़ की वजह से होती है जो सामान्य तौर पर पेट में पायी जाती हैं। सांस और पेट संबंधी कुछ संक्रमणों के कारण ये एंटीबॉडीज़ अपना रास्ता बदल सकती हैं और किडनी को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देती हैं। इम्युनोसप्रेसेंट्स शुरू करने बाद भी बच्चा डायलिसिस पर निर्भर हो गया और इसकी वजह से उसमें अवसाद के लक्षण दिखने शुरू हो गए और उपचार भी प्रभावित होने लगा। सीज़र और कोविड-19 से संक्रमित उसकी स्थिति और

बिगड़ने लगी जिसकी वजह से अस्पताल में भर्ती होना और वेंटिलेटर ज़रूरी हो गया। अस्पताल में चुनौतीपूर्ण 10 दिन बिताने के बाद, बच्चे की स्थिति में सुधार हुआ और उसे डिस्चार्ज कर दिया गया। ट्रांसप्लांट के बारे में काउंसलिंग की गई, लेकिन परिवार इस स्थिति में सर्जरी कराने की उसकी क्षमता को लेकर चिंतित था। आखिरकार उन्होंने सहमति और इस बच्चे की मां ने अपनी किडनी दान दी जिससे मरीज को नया जीवन मिला।

चौथा मामला अमेरिका में पढ़ने वाले 23 वर्षीय युवक का है जिसके पेट में अचानक दर्द हुआ और जांच के बाद पता चला कि उन्हें उच्च रक्तचाप की समस्या है और उनके अल्ट्रासाउंड में सामने आया कि वह सीकेडी स्टेज 5/ किडनी फेल की समस्या का भी सामना कर रहे हैं। उन्हें भारत लाया गया और नए सिरे से जांच की गई और उनकी जांच यह पुष्टि हुई कि उन्हें एडवांस स्टेज की, ठीक न होने वाली किडनी की बीमारी है। उन्हें डायलिसिस और किडनी ट्रांसप्लांट की सलाह दी गई, लेकिन उनके परिवार में कोई मैचिंग ब्लड ग्रुप नहीं मिला। उनकी मां का ब्लड ग्रुप एबी पॉज़िटिव था और डुअल एंटीजन की वजह से उन्हें अत्यधिक जोखिम वाला डोनर माना गया। विभिन्न प्रकार के प्लाज़्मा एक्सचेंज के माध्यम से वह किसी दूसरे ब्लड ग्रुप की किडनी लेने के लिए भी तैयार थे। उनका एबीओ इनकंपैटिबल ट्रांसप्लांट किया गया जिसमें मरीज़ को किसी दूसरे ब्लड ग्रुप की किडनी दी जाती है। मां की किडनी लेकर अब वह सेहतमंद और सामान्य जीवन जी रहे हैं।

पांचवा मामला 39 वर्षीय पुरुष का था जिन्हें तेज़ बुखार के कारण शुरुआत में किसी दूसरे अस्पताल में भर्ती किया गया जहां व्यापक तौर पर जांच के बाद यह पाया गया कि उनका कैरेटनाइन ज़्यादा था। आगे की जांच में गले में लिंफ नोड होने का पता चला जिससे कैंसर होने का संदेह हुआ। इसके लिए उनकी बायप्सी की गई। इसके बाद, उन्हें फोर्टिस हॉस्पिटल, नोएडा लाया गया जहां जांच में उनका कैरेटनाइन 7.2 पाया गया। तेजी से किडनी के खराब होने की जानकारी मिली और जांच में यह पाया गया कि स्मॉल वैसेल वैस्क्यूलाइटिस – मल्टी सिस्टम डिसऑर्डर है जिसमें किडनी काफी हद तक प्रभावित है। किडनी बायप्सी की गई जिसमें गंभीर स्तर की बीमारी का पता चला जिसका मतलब है कि किडनी 85- 90 फीसदी तक खराब हो चुकी थी। कुछ खास दवाओं के साथ उपचार शुरू किया गया और इसके बाद उनकी तबियत में काफी सुधार हुआ और उनके कैरेटनाइन का स्तर घटकर 2.2 हो गया।

एक अन्य मामले में 35 वर्षीय पुरुष को 2-3 हफ्तों तक कान से कुछ पदार्थ निकलने की शिकायत हुई और उनकी योजना सर्जरी कराने की थी। सर्जरी से पहले की जाने वाली जांच के दौरान, नेफ्रोलॉजी से संबंधित परीक्षण में किडनी के ठीक तरह से काम न करने की जानकारी मिली। उनके मूत्र में प्रोटीन और खून निकल रहा था। मूत्र की जांच में एंटीबॉडीज होने का पता चला जिसकी वजह से किडनी को नुकसान पहुंच रहा था। तत्काल ही उनकी दवाएं शुरू की गई और उनकी किडनी की बायप्सी की गई। बायप्सी से क्रेसॅटिक ग्लोमेरुलोनेफराइटिस का पता चला। यह एक प्रकार का किडनी को होने वाला नुकसान है जो एंटीबॉडीज़ की वजह से होता है। इस मामले में नुकसान सी एएनसीए एंटीबॉडीज की वजह से पहुंच रहा था। यह नुकसान बहुत तेज़ी से हो रहा था और उपचार न होने पर तीन महीने के भीतर किडनी फेल होने का खतरा काफी ज्यादा था। फोर्टिस में हर दो हफ्ते में उन्हें आईवी एंडॉक्सन के 6 चरण दिए गए। तीन महीने के बाद यह बीमारी कमज़ोर पड़ने लगी और उनकी तबियत में काफी सुधार देखने को मिलने लगा। इसके अलावा, उनके कान से निकलने वाला पदार्थ और लिवर संबंधी समस्या सर्जरी के बिना ही खत्म हो गई।

इन मामलों के बारे में डॉ. अनुजा पोरवाल, एडिशनल डायरेक्टर, नेफ्रोलॉजी, फोर्टिस हॉस्पिटल, नोएडा ने कहा, “किडनी संबंधी बीमारियों से बचाव और उनके उचित उपचार की तत्काल

ज़रूरत है क्योंकि ऐसे मामलों में काफी तेज़ी आई है जो कि चिंताजनक है। लोगों को नियमित तौर पर जांच करानी चाहिए, खास तौर पर उन लोगों को जिनमें जोखिम की कई अन्य वजहें हैं और उनमें बीमारी की आशंका बढ़ जाती है। उन्हें सेहतमंद जीवन जीना चाहिए और बिना देरी के चिकित्सकीय सलाह लेनी चाहिए। किडनी संबंधी बीमारियां कई वजहों से हो सकती हैं और कई बार इनका पता किसी दूसरी बीमारी की जांच के दौरान चलता है। अगर इन बीमारियों का पता समय से चल जाए तो काफी हद तक इनका उपचार संभव है और इस तरह कई जिंदगियां बचाई जा सकती हैं। अगर बीमारी का पता तब चलता है जब मरीज़ की किडनी फेल हो चुकी हो, तब भी सब कुछ खत्म नहीं हो जाता है। वे किडनी ट्रांसप्लांट के बाद लगभग सामान्य लोगों जैसा ही अच्छा जीवन जी सकते हैं।”

फोर्टिस हैल्थकेयर लिमिटेड के बारे में

फोर्टिस हैल्थकेयर लिमिटेड, जो कि आईएचएच बेरहाड हैल्थकेयर कंपनी है, भारत में अग्रणी एकीकृत स्वास्थ्य सेवा प्रदाता है। यह देश के सबसे बड़े स्वास्थ्यसेवा संगठनों में से एक है जिसके तहत् 28 हैल्थकेयर सुविधाएं, 4,500+ बिस्तरों की सुविधा (ओ एंड एम सुविधाओं समेत) तथा 400 से अधिक डायग्नॉस्टिक केंद्र (संयुक्त उपक्रम सहित) हैं। भारत के

अलावा, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) तथा नेपाल एवं श्रीलंका में भी फोर्टिस के परिचालन है। कंपनी भारत में बीएसई लिमिटेड तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर सूचीबद्ध है। यह अपनी ग्लोबल पेरेंट कंपनी आईएचएच से प्रेरित है तथा मरीज़ों की विश्वस्तरीय देखभाल एवं क्लीनिकल उत्कृष्टता के उनके ऊंचे मानकों से प्रेरणा लेती है। फोर्टिस के पास -23,000 कर्मचारी (एगिलस डायग्नॉस्टिक्स लिमिटेड समेत) हैं जो दुनिया में सर्वाधिक भरोसेमंद हैल्थकेयर नेटवर्क के तौर पर कंपनी की साख बनाने में लगातार योगदान देते हैं। फोर्टिस के पास क्लीनिक्स से लेकर क्वाटरनरी केयर सुविधाओं समेत संपूर्ण एकीकृत स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हैं।

Please follow and like us:
Pin Share

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email