Noida News : हिन्द मजदूर सभा ने  मनाया मजदूर दिवस

 Noida News : हिन्द मजदूर सभा ने  मनाया मजदूर दिवस
Share this post
Noida News : मई दिवस साक्षी है इस बात का कि मजबूत एकता के साथ आगे बढ़ने  वाले मजदूर घोर पूंजीवाद सरकारों को भी अपना रास्ता बदलने के लिए मजबूर कर देते हैं, लेकिन इसके विपरीत चंद सुविधाओं और व्यक्तिगत फायदों की चाहत में टूटी एकता सदियों से कमाई हुई सफलता को भी बचा पाने में असफल हो जाती है और उन्हें गंवा देती है।  वर्ष 1886 में तमाम विपरीत परिस्थितियों में शिकागो के मजदूरों ने अपने प्राणों की आहुति देकर भी अपनी एकता और दृढ़ता की डोर को टूटने नहीं दिया और आने वाली पीढ़ियों के लिए काम के घंटे तय करके साबित कर दिया कि पूंजी और सत्ता का बर्बर गठजोड़ भी उनके हौसले के आगे कुछ नहीं है। मई दिवस का सबक भी हमसे यही अपेक्षा करता है, लेकिन मताधिकार के रूप में मिली राजनीतिक पहचान तथा असंगठित क्षेत्र में श्रमिकों को  हासिल अधिकारों ने मई दिवस के संकल्प को विस्मृत कर दिया।

सुविधा और राजनीतिक आधार पर मजदूरों में बिखराव होने लगा। एक से दो, चार फिर आठ और 10 तमाम केन्द्रीय संगठनों में मजदूर बिखरते चले गये। हर साल मई दिवस पर जब हम ‘‘दुनिया के मजदूरों एक हो’’ का नारा लगा रहे होते हैं तो कहीं न कहीं असंगठित मजदूरों में एक और बिखराव की बात भी चल रही होती है। यही कारण है कि आजादी के 75 सालों बाद भी देश का 25 फीसदी मेहनतकश वर्ग भी संगठित नहीं हो पाया। सवा अरब की आबादी वाले देश में बमुश्किल 2 करोड़ श्रम शक्ति संगठित हुई और वह भी तमाम केंद्र और राज्य स्तरीय संगठनों में बंट गयी। मजदूरों में आये इस बिखराव की मजदूरों ने बड़ी कीमत चुकाई है। एक सौ पैंतीस साल पहले काम करने के घंटे तय करने की जो लड़ाई शिकागो के मजदूरों ने पूंजीवादी व्यवस्था में जीत कर दिखाया था  वह लड़ाई भी आजाद भारत के मजदूरों हार गये। कारखाना कानून में 8 घंटे की ड्यूटी निर्धारित होने के बावजूद भी मजदूर 12-12 घंटे काम करने को मजबूर हैं। स्थिति और भयावह हो, इसके पूर्व श्रम संगठनों को आत्ममंथन करना होगा। चंद संगठित क्षेत्र में दोहरी सदस्यता कर अपनी श्रेष्ठता की लड़ाई छोड़ कर विशाल असंगठित क्षेत्र को संगठित करने की जिम्मेदारी मिल-जुल कर निभानी होगी। दुनिया के मजदूरों की एकता का नारा ठीक है लेकिन देश के मजदूरों की एकता पहले जरूरी है। उक्त उद्गार आज यहां  हिन्द मजदूर सभा जनपद गौतमबुद्ध नगर द्वारा  मई दिवस के अवसर पर आयोजित विशाल जनसभा को  प्रदेश सचिव आर पी सिंह ने संबोधित करते हुए   व्यक्त किये।

सभा को संबोधित करते हुए हिन्द मजदूर सभा गौतम बुद्ध नगर के का0 महामंत्री रितेश कुमार झा कहा कि पूंजीवाद के शोषण को जड़ से उखाड़ने के लिए मजदूरों को जाति और मजहब कट्टरपंथी ताकतों और जातिवादी राजनीति के ठेकेदारों से लोहा लेना होगा और यह काम आधी आबादी को घरेलू गुलामी में कैद रखकर नहीं किया जा सकता इसलिए इस लड़ाई में हमें महिलाओं को बराबरी का दर्जा देकर साथ ले चलना होगा। सभा को सुदेश भाटी, ललित शर्मा, विमलेश कुमार, केपी सिंह, सीके मिश्र, मतीउल्लाह, शत्रुघ्न राजेश शर्मा, प्रवीन कुमार वर्मा एस एन पांवड़े आदि नेताओं ने संबोधित किया।

Please follow and like us:
Pin Share

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email