Noida news : इंडिया डिफेंस कॉनकेल्व 2023 में एमिटी एजुकेशनल एंड रिसर्च एस्टैब्लिशमेंट को प्रतिष्ठित अकादमिक पुरस्कार से किया सम्मानित

 Noida news : इंडिया डिफेंस कॉनकेल्व 2023 में एमिटी एजुकेशनल एंड रिसर्च एस्टैब्लिशमेंट को प्रतिष्ठित अकादमिक पुरस्कार से किया सम्मानित
Share this post

 

Noida news : यह हम सभी एमिटी परिवार के लोगों के लिए अत्यंत गर्व भरा समय था जब एमिटी एजुकेशनल एंड रिसर्च एस्टैब्लिशमेंट के संस्थापक अध्यक्ष डा अशोक कुमार चौहान को नई दिल्ली के होटल द ललित में डीआरडीओ द्वारा आयोजित इंडिया डिफेंस कॉनकेल्व 2023 में रक्षा प्रौद्योगिकियों में युवाओं को बढ़ावा देने और कौशल प्रदान करने के लिए ‘‘प्रतिष्ठित अकादमिक पुरस्कार’’ से सम्मानित किया गया। यह सम्मान डा चौहान को भारत सरकार के केन्द्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह द्वारा प्रदान किया गया। इस अवसर पर रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार डा जी सतीश रेड्डी, भारतीय वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वी आर चौधरी, डीआरडीओ चेयरमैन डा समीर वी कामत, सहित राजदूत, वैज्ञानिक, अधिकारी व वरिष्ठ पत्रकार उपस्थित थे।

भारत सरकार के केन्द्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने इंडिया डिफेंस कॉनकेल्व 2023 का उद्घाटन करते हुए कहा कि भारत ने पिछले 9 वर्षो में असीमित ‘अंतरिक्ष’ को पार कर लिया है क्योकि प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी ने कई नीतिगत पहल की है। रक्षा और अंतरिक्ष क्षेत्रों को नीतिगत अंतरालों को पाटकर अपने तेज और स्वदेशी विकास के लिए सक्षम वातावरण प्राप्त हुआ है। भारत क्वांटम प्रौद्योगिकियों में विशिष्ट देशों में शामिल हो गया है। हमारे युवा अपनी अभूतर्पूव क्षमता और निजी औद्योगिकी उद्यम की ताकत आने वाले समय में वैश्विक अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का नेतृत्व करेगें।

एमिटी एजुकेशनल एंड रिसर्च एस्टैब्लिशमेंट के संस्थापक अध्यक्ष डा अशोक कुमार चौहान ने सम्मान स्वीकृति भाषण में कहा कि एमिटी के लिए प्रबुद्ध जनों की उपस्थिती में केन्द्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ जितेंद्र सिंह द्वारा यह सम्मान प्राप्त करना बेहद खुशी प्रदान करनेवाला है जिसके लिए हम बेहद आभारी है। एमिटी सदैव युवाओं में विज्ञान सहित रक्षा प्रौद्योगिकियों के प्रोत्साहन हेतु कार्य करता रहा है। हमारा दृढ़ विश्वास है कि स्न 2030 तक हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत एक वैश्विक महाशक्ति बन जाएगा और स्न 2047 तक जब भारत 100 साल की आजादी का जश्न मनाएगा तब यह विश्व का आर्थिक और बौद्धिक महाशक्ति होगा। हम युवाओं को कल देश का नेतृत्व करने के लिए तैयार करते है जो देश को आत्मनिर्भर और महाशक्ति बनने में सहायक होगा।

इंडिया डिफेंस कॉनकेल्व 2023 के दौरान भारत रक्षा और एयरोस्पेस में आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देना, रक्षा में साइबर सुरक्षा की भूमिका, रक्षा क्षेत्र मे आत्मनिर्भरता और सुधार, प्रौद्योगिकी और प्रणाली, रक्षा अनुसंधान एवं विकास मे नेतृत्व के लिए एंड टू एंड इकोसिस्टम जैसे विषयों पर पैनल सत्रों व परिचर्चा सत्रों का आयोजन किया गया।

एमिटी साइंस टेक्नोलॉजी एंड इनोवेशन फांउडेशन के अध्यक्ष डा डब्लू सेल्वामूर्ती ने पैनल चर्चा के दौरान ‘‘ अगली पीढ़ी की प्रौद्योगिकियों के लिए मानव अवसंरचना संसाधन’’ विषय पर विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आत्मनिर्भर रक्षा पारिस्थितिकी तंत्र के लिए तीन प्रमुख संस्थान है डीआरडीओ, रक्षाआत्मनिर्भर उद्योग और शिक्षा जगत। भारत को न केवल आत्मनिर्भर बनना चाहिए बनना चाहिए बल्कि पूरी विश्व को रक्षा उपकरणों की डिजाइनिंग निर्माण और आपूर्ति करके विश्व निर्माण हेतु अग्रणी रहना चाहिए। रक्षा प्रौद्योगिकी के लिए उत्कृष्टता केंद्र शैक्षिक संस्थानों द्वारा बनाए जाने चाहिए। देश में रक्षा क्षेत्र में विकास के लिए शिक्षाविदों, डीआरडीओ, और उद्योगों के बीच सहयोग अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होने कहा कि एमिटी विश्वविद्यालय द्वारा पेश किये जाने वाले रक्षा प्रौद्योगिकियों के पाठयक्रम उन छात्रों के लिए लाभप्रद है जो रक्षा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में कैरियर बनाना चाहते है।

इस इंडिया डिफेंस कॉनकेल्व 2023 के समापन समारोह को संबोधित करते हुए भारत सरकार के रक्षा और पर्यटन राज्य मंत्री श्री अजय भट्ट ने कहा कि भारत ने प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी जी के नेतृत्व में अभूतपूर्व विकास देखा है और आज स्वास्थय सेवा, शिक्षा, रक्षा आदि के लिए भारत की ओर देख रही है। भारत एक मजबूत आर्थिक और ज्ञानशक्ति के रूप में आत्मनिर्भरता की राह पर चल रहा है।

एमिटी विश्वविद्यालय ने इस कॉनकेल्व में अपने वैज्ञानिकों द्वारा किये गये अनुसंधानों व नवाचारो जैसे नैनो ब्रीथ एन 95 पीएम 2.5 एंटीमाइक्रोबियल फेस मास्क, प्रोजेक्ट दिव्य दृष्टि, फिजियोलॉजिकल पैरामीटर्स पर एक व्यक्ति की एआई आधारित जांच, सिल्वर नैनो का उपयोग करके पुन प्रयोज्य जल शोधक आदि का प्रदर्शन भी किया।

Please follow and like us:
Pin Share

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email